FasTag kya hai(फास्टैग क्या है),Fastag kaise banayeऔर Fastag Recharge कैसे करें? Free

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
FasTag

FasTag kya hai(फास्टैग क्या है), Fastag kaise banaye, और ये काम कैसे करता है, फुल फॉर्म, रिचार्ज कैसे करें, हेल्पलाइन नंबर, कहां से मिलेगा, फायदे [What is FasTag] (Electronic Toll Collection or ETC, on Toll Plazas in India, How it works, Recharge, Monthly Pass, Customer Care Number, login, Best Fastag Apps, online apply, Meaning in hindi)

FasTag kya hai

FasTag


टेक्नोलॉजी के दौर में दिन प्रतिदिन हर एक समस्या का समाधान निकलता जा रहा है ऐसे ही टोल प्लाजाओं पर टोल कलेक्शन सिस्टम से होनेवाली परेशानियों का हल निकालने के लिए राष्ट्रीय हाईवेज अथॉरिटी ऑफ इंडिया(NHAI) द्वारा भारत में इलेक्ट्रॉनिक टोल कलेक्शन सिस्टम(ETC) शुरू किया गया है

इलेक्ट्रॉनिक टोल कलेक्शन सिस्टम या फास्टैग स्कीम भारत में सबसे पहले साल 2014 में शुरू की गई थी जिसे धीरे-धीरे पूरे देश के टोल प्लाजाओं पर लागू किया जा रहा है,

और आज देश के लगभग 90% से भी ज्यादा टोल प्लाजा ऊपर Fastag देखने को मिलता है फास्टैग सिस्टम की मदद से आपके सफर के बीच में सड़क पर आने वाले टोल प्लाजा मैं टोल टैक्स देने के दौरान होने वाली सभी परेशानियों से छुटकारा पा सकते हैं फास्टैग एक ऐसा सिस्टम है

जिसकी सहायता से आप टोल टैक्स प्लाजा पर बिना रुके एक्स का भुगतान कर सकते हैं (FasTag kya hai) बस आपको इतना करना है कि फास्फेट का यह कारण आपको अपनी कार के आगे वाले शीशे पर लगाना होगा, आप ये टैग किसी आधिकारिक टैग जारीकर्ता या सहभागिता बैंक से खरीद सकते हैं

FasTag Kya hai(फास्टैग क्या है)

FasTag


फ़ास्टैग इलेक्ट्रॉनिक टोल भुगतान करने की एक तकनीक है
दरअसल राष्ट्रीय राजमार्ग से अपने वाहन को चलाने के लिए सरकार द्वारा टोल टैक्स लिया जाता है, अब यह टोल टैक्स फास्टैग के जरिए ऑनलाइन भुगतान हो जाता है, आपको बस इतना करना है इस फास्टैग स्टीकर को अपने आगे की विंडो स्क्रीन पर चिपकाना है यह रेडिओ फ्रिक्वेन्सी आइडेंटिफिकेशन (RFID) तकनीक पर काम करता है एक प्रकार का ऐसा टैग है जो की सभी गाड़ी के विंड स्क्रीन पर लगाया जाता है। यह फास्टैग आपके बैंक अकाउंट या आपके वॉलेट से जुड़ा हुआ होता है। जहां से टोल टैक्स का भुगतान अपने आप ही आपके बैंक अकाउंट से हो जाता है

UPI transaction Limit : PhonePe, Google Pay, Amazon Pay, Paytm की नई लिमिट फिक्स, यहां चेक करें

फास्टैग कैसे कार्य करता है (How Fastag Works)

FasTag


फास्टैग वाहन के विंडस्क्रीन में लगाया जाता है और इसमें रेडियो फ्रिक्वेंसी आइडेंटिफिकेशन (RFID) लगा होता है जैसे ही आपकी गाड़ी टोल प्लाजा से गुजरती है, तो टोल प्लाजा पर लगा सेंसर आपके वाहन के विंडस्क्रीन में लगे फास्टैग के संपर्क में आते ही, आपके फास्टैक अकाउंट से उस टोल प्लाजा पर लगने वाला शुल्क कट जाता है

और वहां पर बिना अपना समय गवाए प्लाजा टैक्स का भुगतान कर सकते हैं वहीं जब आपके फास्टैग अकांउट की राशि खत्म हो जाएगी, तो आपको उसे फिर से रिचार्ज करवाना पड़ेगा फास्टैग कार्ड की वैधता 5 वर्ष तक की होगी पांच वर्ष के बाद आपको नया फास्टैग अपनी गाड़ी पर लगवाना होगा

भारत में 5 सर्वश्रेष्ठ Electric Bycycle/Cycle, जिनको हर कोई खरीदना चाहता है

वाहनों में लगने वाले फास्टैग के प्रकार (Types of Fastag)

FasTag
  • छोटे व्यापारिक वाहनों के लिए नारंगी रंग (Orange Color)
    का फास्टैग होता है।
  • यदि आपके पास निजी कार (प्राइवेट कार) है तो इसके लिए
    बैंगनी रंग (पर्पल कलर) का फास्टैग होता है।
  • मशीनरी व भारी वाहनों के लिए काले रंग का फास्टैग प्रयोग
    होता है।
  • 2 Axle और 3 Axle वाहनों के लिए क्रमशः हरे रंग और पीले
    रंग के का फास्टैग का प्रयोग होता है।
  • 4,5 और 6 Axle वाहनों के लिए गुलाबी रंग के फास्टैग का
    प्रयोग तथा 7Axle वाहनों के लिए आसमानी रंग का फास्टैग
    प्रयोग होता है।

फास्टैग के लाभ(Benefits of FasTag or ETC)

FasTag
  • इस फास्टैग सिस्टम से कैशलेस ट्रांजेक्शन में तेजी आएगी।
  • टोल प्लाजा में ज्यादा समय तक इंतज़ार नहीं करना पड़ेगा।
  • फास्टैग के जरिए मालिक अपनी गाड़ी की ट्रैकिंग भी कर
    सकता है।
  • लोगो के कीमती समय की बचत भी होगी।
  • गाड़ी के पेट्रोल डीजल की भी बचत होगी , क्योकी आपको टोल
    प्लाजा पर वाहन को ज्यादा समय तक रुकना नही पड़ेगा।
  • फास्टैग है तो लम्बे ट्रैफिक जाम लगने से भी बचा जा सकेगा।
  • फास्टैग से अवैध वसूली की समस्या से भी निजात मिल सकेगी
    कई बार टोल प्लाजा पर लोग अवैध वसूली भी करते हैं
  • फास्टैग वॉलेट में बचे हुए रकम को आप 5 वर्षों तक प्रयोग में
    ला सकेंगे।

•गाड़ी पर लगे फास्टैग स्टीकर से भुगतान में पारदर्शिता आएगी।

  • फास्टैग स्टीकर से एसएमएस अलर्ट फैसिलिटी मिलती है।
  • फास्टैग स्टीकर से टोल ऑपरेटर्स को इससे आसानी होगी।
  • फास्टैग स्टीकर से टोल प्लाजा में ओवरलोडिंग की समस्या कम
    होगी।
  • फास्टैग स्टीकर से टैक्स की चोरी अब आसान नहीं होगी।
  • फास्टैग में आपको कैशबैक की सुविधा मिलती है , जो कि
    आपको यह सुविधा ऑफलाइन पेमेंट करने पर नहीं मिलती
  • फास्टैग में शेष राशि से आपको कैशबैक मिलता है जो लगभग
    सात दिनों में फास्टैग बैंक में आ जाता है।
  • गाँव के लोगों को खास सुविधा (Monthly Pass)
    यदि कोई गाँव नेशनल हाईवे पर मौजूद किसी टोल प्लाज़ा के 20 किलोमीटर के दायरे में अंदर आते हैं तो उस गांव के जितने भी वाहन चालक हैं उन्हें 275 रूपये का भुगतान एक बार में करना होता है, जो कि पूरे महीने के लिए होता है अपना आधार कार्ड दिखाकर वे इसका लाभ आसानी से उठा सकते हैं

Fastag Recharge Banks फ़ास्टैग रिचार्ज कैसे करें?

FasTag

यदि आप क्रेडिट कार्ड, डेबिट कार्ड, आरटीजीएस, पेटीएम और नेट बैंकिंग के माध्यम से अपने फास्टैग अकाउंट को रिचार्ज करना चाहते हैं तो कर सकते हैं फास्टैग खाते में एक बार में कम से कम 100 रूपए और ज्यादा से ज्यादा एक लाख तक रिचार्ज कराया जा सकता है आप किसी भी प्वाइंट ऑफ सेल (POS) के अंदर आने वाले टोल प्लाजा और एजेंसी में जाकर अपना फास्टैग स्टीकर और फास्टैग अकाउंट खुलवा सकते हैं और आजकल तो टोल प्लाजा के पहले ही आपको फास्टैग स्टीकर विंडो मिल जाएगी जहां पर आप अपना फास्ट बनवा सकते हैं या इसमें रिचार्ज भी करवा सकते हैं

इसके लिए अलग सेराष्ट्रीय हाईवेज अथॉरिटी ऑफ इंडिया की वेबसाइट में जाकर आप अपने आसपास के प्वाइंट ऑफ सेल की जगह का पता कर सकते है आप एसबीआई बैंक, आईसीआईसीआई बैंक, एक्सिस बैंक, एचडीएफसी बैंक, पंजाब नेशनल बैंक, सिंडिकेट बैंक, पेटीएम, करूर व्यास बैंक, आचडीएफसी बैंक के जरिए आप फास्टैग अकांउट को रिचार्ज कर सकते हैं यही नहीं इसके लिए आप फोन पे , पेटीएम या फिर अमेजॉन पे के माध्यम से भी फास्टैग रिचार्ज आसानी से करवा सकते हैं फास्टैग अकांउट खोलाने के वक्त आपको दिए गए एक फॉम के साथ निम्नलिखित दस्तावेजों को भी जमा करवाने की आवश्यकता पड़ेगी, जो कि इस प्रकार हैं-

  1. वाहन के पंजीकरण प्रमाण पत्र (आरसी)
  2. वाहन मालिक के पासपोर्ट तस्वीर
  3. वाहन मालिक के केवाईसी दस्तावेज और कोई भी दस्तावेज
    जिसपर आपके घर का पता हो

भारत में फास्टैग की शुरुआत (When Start FasTag in India)

FasTag


भारत में ये सिस्टम सबसे पहले अहमदाबाद और मुंबई हाईवे के बीच 2014 में शुरू किया गया था बाद में इसकी सफलता को देखते हुए जुलाई 2015 में इसे चेन्नई-बेंगलुरु टोल प्लाजा पर शुरू किया गया था अभी तक देश के 90% टोल प्लाजाओं पर इस सुविधा को शुरू कर दिया गया है यानी इन टोल प्लाजाओं में आप फास्टैग के जरिए टोल टैक्स का भुगतान कर सकते हैं

Best Fastag Apps


वैसे तो बाजार में आज की तारीख में फास्टैग के लिए अलग-अलग एप्लीकेशन उपलब्ध है लेकिन ‘Park + app’ सबसे अच्छा इंडिया का फास्टैग एप है इस ऐप के जरिए आप नए केवल फास्टैग वॉलेट में रिचार्ज कर सकते हैं बल्कि यात्रा के दौरान होने वाले आपके सभी e-challan को भी आप इस एप्लीकेशन के माध्यम से ऑनलाइन भुगतान कर सकते हैं

वाहन पर फास्टैग जरूरी [Fastags mandatory]


नेशनल हाईवे अथॉरिटी ऑफ इंडिया (NHAI) के द्वारा साल 2019 में एक दिसंबर के बाद से बिकने वाले सभी प्रकार के चार-पहियां वाहनों पर फास्टैग लगाना अति आवश्यक कर दिया था अगर इसके बाद भी किसी वाहन पर फास्टैग का स्टीकर नहीं होता है तो टोल प्लाजा पर आपको दोगुना टोल टैक्स भुगतान करना पड़ेगा

टोल टैक्स के अलावा इन कामों के लिए भी जरुरी FASTag

  • यदि आपकी गाड़ी में फ़ास्टैग लगा होगा तभी आप अपनी गाडी
    के लिए ट्रांसपोर्ट फिटनेस सर्टिफिकेट को रिन्यू करा सकते हैं
  • NHAI के द्वारा जब फ़ास्टैग की शुरुआत की गई थी, तभी से
    नेशनल परमिट व्हीकल्स के लिए भी फ़ास्टैग आवश्यक हो गया
    था

FASTag कहां से खरीदें


फ़ास्टैग को खरीदने के लिए आप किसी भी टोल प्लाजा में जा सकते हैं इसे खरीदने के लिए आपको अपनी गाड़ी के पंजीकरण दस्तावेजों के साथ ही एक पहचान आईडी की आवश्यकता होगी इसे आप विभिन्न बैंक में जाकर भी खरीद सकते हैं, इसमें एसबीआई बैंक, एचडीएफसी बैंक, एक्सिस बैंक, आईसीआईसीआई बैंक, कोटक बैंक एवं पेटीएम पेमेंट बैंक के साथ ही 22 अन्य बैंक शामिल है इसके अलावा कुछ ई – कॉमर्स प्लेटफॉर्म जैसे पेटीएम, अमेज़न एवं फ्लिपकर्ट जैसी साइट्स के माध्यम से भी आप फ़ास्टैग को खरीदने के लिए ऑर्डर दे सकते हैं

फास्टैग को ऑनलाइन कैसे रिचार्ज करें (Online Recharge)


यदि आप जानना चाहते हैं कि आप फ़ास्टैग को कैसे रिचार्ज कर सकते हैं इसकी पूरी प्रक्रिया जानने के लिए हमारे द्वारा दी गई इस लिंक पर क्लिक करके पूरी जानकारी प्राप्त कर सकते हैं और आसानी से अपने फास्टैग वॉलेट में रिचार्ज कर सकते हैं

फास्टैग में रिचार्ज करने के लिए यहां क्लिक करें

Zero Balance FasTag Kya hai(जीरो बैलेंस का फ़ास्टैग क्या है)


वैसे तो आपको पता ही है कि नेशनल हाईवे अथॉरिटी ऑफ इंडिया के द्वारा बनाए गए सभी राष्ट्रीय राजमार्गों पर सफर करने के लिए आपको एक टैक्स देना पड़ता है जिसको बोलते हैं और टैक्स यानी सड़क के ऊपर एक निर्धारित दूरी के बाद एक टोल प्लाजा बनाया जाता है जहां पर आप से सड़क का टैक्स लिया जाता है लेकिन कुछ लोग ऐसे भी हैं जिनको यह टोल टैक्स भुगतान नहीं करना पड़ता यानी वह टोल पर बिना रुके सड़क पर यात्रा कर सकते हैं ऐसे फ़ास्टैग को एक्जमटेड फ़ास्टैग नाम दिया गया है आइये जानते हैं कौन हैं वे लोग जिसे जीरो बैलेंस के फ़ास्टैग के साथ टोल नाके से गुजरने की अनुमति है
जीरो बैलेंस फ़ास्टैग उपयोग करने वाले लाभार्थी (Eligibility)-

अगर राष्ट्रीय राजमार्ग पर बिना किसी टोल टैक्स के अगर आप सफर कर रहे हैं तो आप किसी वीआईपी से कम नहीं हैं यानी जीरो बैलेंस फास्टैग का उपयोग वही लोग कर सकते हैं जो इस सूची में शामिल हैं ये जीरो बैलेंस फ़ास्टैग का लाभ उठाने वाले वीआईपी लोग देश के सांसद एवं विधायक होते हैं देश में जितने भी सांसद एवं विधायक है उन्हें उनकी 2 गाड़ियों के लिए फ़ास्टैग मिलते हैं एक संसदीय क्षेत्र के लिए और दूसरा राजधानी दिल्ली के लिए, यहाँ उन्हें संसद सत्र के दौरान भाग लेने के लिए आना होता है इसके अलावा यह सुविधा निम्न लोगों को दी जाती है –
भारत के राष्ट्रपति,उपराष्ट्रपति,प्रधानमंत्री,सभी राज्यों के राज्यपाल,भारत के मुख्य न्यायधीश,लोकसभा के अध्यक्ष,सभी,कैबिनेट मंत्री,सभी राज्यों के मुख्यमंत्री,उच्च,न्यायालय के मुख्य न्यायधीश,भारत सरकार के सचिव,थल सेना प्रमुख यानि सेना कमांडर,अन्य सेना प्रमुख एवं
राज्य सरकार प्रमुख, इसके अलावा कृषि से जुड़े समस्त साधना को किसी भी राष्ट्रीय राजमार्ग से गुजरने पर टोल टैक्स नहीं देना पड़ता है

जीरो बैलेंस फ़ास्टैग कैसे बनता है (Zero Balance Fastag Apply)


इस फ़ास्टैग को बनवाने के लिए पात्र लोगों को एनएचएआई की अधिकारिक वेबसाइट पर जाकर अपना आवेदन करना होता है आवेदन देने के बाद एनएचएआई द्वारा इसका सत्यापन किया जाता है और इसके बाद कि यह जारी किया जाता है

फ़ास्टैग हेल्पलाइन नंबर (FasTag Customer Care Number)
फ़ास्टैग बनवाने, रिचार्ज करने, भुगतान करने या फिर अन्य जो भी परेशानी आपको फ़ास्टैग से संबंधित आती है तो आप इस अधिकारिक वेबसाइट पर क्लिक करिये यहाँ आपको फ़ास्टैग रिचार्ज करने वाले बैंक की सूची और बैंक के आधार पर हेल्पलाइन नंबर की सूची दी हुई है इसके अलावा भी आपको जो भी जानकारी चाहिए आप यहाँ से प्राप्त कर सकते हैं.

FAQ


Q. फास्टैग क्या है?
फास्टटैग NHAI द्वारा बनाया गया इलेक्ट्रॉनिक टोल सिस्टम हैं।

Q.फास्टैग का उद्देश्य क्या है ?
टोल इलेक्ट्रॉनिक रूप से कलेक्ट करना और टोल टैक्स में पारदर्शिता लाना इसका प्रमुख उद्देश्य है।

Q. फास्टैग कैसे काम करता है ?
जब भी कोई वाहन टोल प्लाजा से गुजरता है तो टोल प्लाजा में लगे कैमरे RFID रीडर फास्टैग को स्कैन कर लेते हैं और आपका टोल टैक्स कट जाता है।

Q. वाहन में फास्टैग लगवाने से क्या लाभ होते हैं ?
फास्टैग लगाने से आपको कैश की झंझट से मुक्ति मिल जाएगी और फास्टैग लगाने के बाद टोल प्लाजा में जाम भी नही लगता, क्योकि इसे लगाने के बाद टोल टैक्स ऑनलाइन कटता है जिसमे कुछ ही सेकेण्ड का वक्त लगता है।

Q. फास्टैग को भारत में कबसे शुरू किया गया था?
फास्टैग को देश में वर्ष 2014 से लागू किया गया था।

  1. क्या हर चौपहिया वाहन का फास्टैग अलग-अलग होता है ?
    हाँ,हर वाहन के अलग-अलग रंग के फास्टैग होते हैं।
    Q : फ़ास्टैग एक्टिव कैसे करें ?
    Ans : Myfasteg एवं Fasteg एंड्राइड मोबाइल एप्स के माध्यम से आप अपने फ़ास्टैग को एक्टिव कर सकते हैं

Q : फ़ास्टैग के चार्जेज कितने होते हैं ?
Ans : 200 रूपये. हालांकि यह बैंक के ऊपर निर्भर करता है

Q : फ़ास्टैग कैसे एक्सेस करें ?
Ans : यह किसी भी पॉइंट ऑफ़ सेल की लोकेशन और एक्सेस हो सकता है

Q:- Fastag काम कैसे करता है?
आप जब भी गाड़ी ले के जाते है अपने गाड़ी पे लगे स्टिकर के जरिए अपका टोल टैक्स का भुगतान ऑनलाईन आपके Fastag वॉलेट से हो जाता है

Q:- क्या हम Fastag रिचार्ज ऑनलाईन कर सकते है?
हां दोस्तो ऑनलाइन आप Google pay, Phone pe, Amazon pe, UPI ID, Paytm से कर सकतें है

Q:- Fastag की वैधता क्या है ?
Fastag की वैधता कम से कम तो 5 साल तक होता ही है ।

Q:- Fastag के चार्ज कितना है ?
Fastag के चार्ज ₹200 रूपए तक है

Leave a Comment