Chandrayaan-3 Landing, चंद्रयान के हो गए दो टुकड़े, ऐसा क्या हुआ, पढ़ें पूरी जानकारी

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
Chandrayaan-3 Landing

Chandrayaan-3 Landing

Chandrayaan-3 Landing


Chandrayaan-3 Landing भारत के सबसे बड़े स्पेस प्रोजेक्ट में से हे chandrayaan-3 जिसको हाल ही में लांच किया गया दोस्तों आपको बता देगी chandrayaan-3 अपने निर्धारित क्षेत्र की बाउंड्री में पहुंच गया है जहां पर अब चंद्रयान के प्रोपल्शन मॉड्यूल और लैंडर अलग अलग होंगे दोस्तों देश के लिए यह मौका बेहद ही महत्वपूर्ण है सभी देशवासी इसके लिए प्रार्थना करें कि हमारे द्वारा भेजा गया चंद्रयान सफलतापूर्वक वहां पर पहुंचे इसकी ताजा अपडेट पाने के लिए आप जुड़ सकते हैं हमारे व्हाट्सएप ग्रुप से

👉 यह भी पढ़ें:- Aadhar Card Photo Change, सिर्फ एक क्लिक में यहां से आधार कार्ड की फोटो चेंज करें FREE

Chandrayaan-3 Landing Live

Chandrayaan-3 Landing


Chandrayaan-3 Landing जैसा कि आपको पता है कि चंद्रयान अपनी निर्धारित सीमा पर पहुंचने के लिए तैयार है कुछ ही देर बाद यह ज्ञान वहां पर लैंड करेगा आपको बता दें कि यहां स्पेस में यहां से भेजे गए हरियाणा के अलग-अलग भाग होते हैं जो उसको निर्धारित समय सीमा तक पहुंचाने के बाद इस यान से अलग हो जाते हैं जिसको थ्रस्टर्स बोला जाता है इसरो के वैज्ञानिकों का कहना है कि चंद्रयान-3 के लैंडर में चार मुख्य थ्रस्टर्स हैं

NOTE : दोस्तों आपको बता दे कि चंद्रयान-3 का विक्रम लैंडर चांद के और नजदीक पहुंच चुका है और विक्रम लैंडर चंद्रमा से सिर्फ 25 किलोमीटर दूर ही और है और यह लैंडर 23 अगस्त को शाम 5:45 पर चंद्रमा पर लैंड करेगा और आपको यह भी बता दे कि चंद्रमा पर लैंड होने वाला यह लैंडर ठीक तरह से कम कर रहा है और इसके चारों इंजन भी अच्छी तरह से कम कर रहे हैं और दोस्तों आपके साथ में यह भी बता दे की रूस के मिशन लूना 25 में तकनीकी खराबी आ चुकी है

यह मिशन लूना 25 30 अगस्त को लैंड करने वाला था लेकिन तकनीकी खराबी के कारण रूस के राष्ट्रपति पुतिन ने पीएम नरेंद्र मोदी के साथ अर्जेंट मीटिंग भी बनवाई है और पीएम नरेंद्र मोदी वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए पुतिन से मुलाकात करेंगे

👉 यह भी पढ़ें:- फ्री में लगवाए अपने घर की छत पर यह सोलर पैनल सरकार देगी पूरा पैसा

chandrayaan-3 अलग बागों में बट जाएगा

Chandrayaan-3 Landing

इसरो के द्वारा भेजा गया चंद्रयान चंद्रमा की सतह की बिल्कुल ही करीब आ गया है और गुरुवार का दिन हम सभी भारत वासियों के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण होने वाला है सबकी निगाहें चंद्रयान-3 के ऊपर टिकी हुई है अब चंद्रयान अपने प्रणोद्दन मॉड्यूल और लैंडर मॉड्यूल को अलग करेगा, चंद्रयान अब चंद्रमा पर 153 किलोमीटर × 163 किलोमीटर की कक्षा में स्थापित हो गया है
14 जुलाई से उड़ान भरने के बाद चंद्रयान-3 को इसरो द्वारा मात्र तीन हफ्तों में चंद्रमा की सतह पर उतार दिया

👉 यह भी पढ़ें:- सैमसंग का यह 5G स्मार्टफोन मिल रहा है बिल्कुल रद्दी के भाव जल्दी खरीदें

क्या कहा इसरो के वैज्ञानिकों ने?

इसरो के वैज्ञानिकों ने कहा कि लैंडिंग का हिस्सा सबसे महत्वपूर्ण मिशन है और अब यह होने जा रहा है इसके लिए हमारे सभी गणितीय मानक सही हो इसकी हमने पूरी गणना कर रखी है वैज्ञानिकों ने यह भी बताया कि कम ईंधन खपत में यह कक्षा में स्थापित हो सके इसके लिए भी उन्होंने वैज्ञानिक दृष्टिकोण को ध्यान में रखते हुए कार्य किया है

NOTE : और दोस्तों आपको बता दे की रडार से एलियन की आवाज आने की बात फर्जी है अभी तक ऐसा कुछ नहीं हुआ है,दोस्तों हम भगवान से यही प्रार्थना करते हैं कि चंद्रयान-3 सफल रहे

भारत माता की जय भारत माता की जय भारत माता की जय भारत माता की जय भारत माता की जय भारत माता की जय

Leave a Comment