ATM Full Form In Hindi , क्या इतने दिन आपको भी एटीएम की फुल फॉर्म गलत पता थी, आज जान लो

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
ATM

ATM Full Form In Hindi

ATM


वैसे तो आप सभी को पता है कि एटीएम का उपयोग दैनिक जीवन में पैसों का लेनदेन करने के लिए किया जाता है चाहे आपको पैसे निकालना हो या आपको ऐसे किसी को भेजना हो एटीएम का उपयोग सरल और गतिशील होने की वजह से आज हर कोई एटीएम का उपयोग करता ही है ऐसे में अब सवाल यह है कि आखिर एटीएम मशीन ATM Full Form In Hindi क्या है

atm full form, atm full form in hindi, atm full form in english, sbi atm near me

What is ATM Full Form?

ATM


ATM का पूरा नाम “Automated Teller Machine” है एटीएम का उपयोग करने के लिए आपके पास एक बैंक द्वारा जारी किया गया एटीएम कार्ड का होना आवश्यक है यह एटीएम कार्ड आजकल स्मार्ट कार्ड ( यानी इनमें एक चिप को लगाया हुआ) के रूप में उपलब्ध है एटीएम कार्ड को आप कहीं भी उपलब्ध एटीएम machine में स्वयं करके अपने पैसे का लेन देन कर सकते हैं वो भी बिना किसी की सहायता के, हालांकि कुछ एटीएम का उपयोग करने पर आपको थोड़ा बहुत चार्ज देना पड़ सकता है जो की पूरी तरह है एटीएम या फिर आपके बैंक पर निर्भर करता है कि आपका एटीएम कार्ड कौन सी बैंक का है और आप कौन से एटीएम कार्ड से पैसे का लेनदेन कर रहे हैं

Best Automatic Cars In India , ये है देश की सबसे अच्छी ऑटोमेटिक कार

ATM Full Form In Hindi


एटीएम को हिंदी में “स्वचलित मुद्रा गणक यन्त्र” बोला जाता है और इस स्वचालित मुद्रा गणक यंत्र का उपयोग मुद्रा का लेनदेन करने में किया जाता है यह एक ऐसी मशीन है जिसमें आप बैंक द्वारा जारी किए गए एटीएम कार्ड को इस मशीन में swap करके पैसे निकाल या फिर जमा कर सकते हैं
अब वर्तमान समय में Modern ATM के द्वारा पैसे निकालने के Deposit Extra Money, Transfer करने और Bank Account Related Details प्राप्त करने की सुविधा भी मिलती है।

Types of Automated Teller Machines (ATM)

ATM


Automated Teller Machines (ATMs) मुख्यतः दो प्रकार की होती है जिसमें पहली साधारण ATM मशीन होती है जिसमें आप पैसे का निकालना, अपने खाते का बैलेंस जानना, ATM card के पिन को बदलना, व अपने खाते से हुई लेनदेन का स्टेटमेंट प्राप्त कर सकते हैं वही दूसरे प्रकार की एटीएम मशीन से आप केस और चेक को जमा कराना, व क्रेडिट कार्ड , बिल का पेमेंट करना इत्यादि काम कर सकते है।

Solar Air Conditioner बिजली बिल से छुटकारा 30 साल तक बिना बिजली के चलेगा यह AC

एटीएम मशीनों को भी उन पर लगे लेबल के हिसाब से अलग-अलग कैटेगरी में बांटा गया है जो कि नीचे निम्न प्रकार से है-

  1. Green Label ATMs : हरे लेबल के एटीएम मशीन का
    उपयोग केवल कृषि के उपयोग के लिए होता है
  2. Yellow Label ATMs : पीले लेबल के एटीएम मशीन का
    उपयोग ई-कॉमर्स लेनदेन के लिए किया जाता है
  3. Orange Label ATMs : इस प्रकार के एटीएम का उपयोग
    ट्रांजैक्शन को शेयर करने के लिए किया जाता है
  4. Pink Label ATMs : विशेष रूप से महिलाओं के लिए लंबी
    कतारों और प्रतीक्षा समय से बचने में मदद करने के लिए
  5. White Label ATMs : सफेद लेबल के एटीएम Tata
    Group के द्वारा लगे होते हैं इस प्रकार के एटीएम पर किसी
    बैंक का अधिकार नहीं होता और ना ही किसी बैंक द्वारा
    संचालित होते हैं
  6. Brown Label Banks : बुरे लेबल के एटीएम बैंक के
    अलावा किसी थर्ड पार्टी के द्वारा संचालित होते हैं
  7. Biometric ATM : बायोमैट्रिक एटीएम का उपयोग अपनी आंखों व फिंगरप्रिंट को स्कैन करके किया जा सकता है

एटीएम का उपयोग कैसे करें?


ऑटोमेटेड टेलर मशीन की सुविधा का लाभ उठाने के लिए आपके पास एक बैंक खाता और एक एटीएम कार्ड होना आवश्यक है एटीएम कार्ड बैंक द्वारा जारी किया जाता है जिस बैंक में आपका खाता खुला हुआ है उसी बैंक में आप एटीएम कार्ड के लिए अलग से फॉर्म लगाकर अपना एटीएम कार्ड प्राप्त कर सकते हैं हालांकि अधिकांश समय, बैंक एक डेबिट कार्ड जारी करते हैं जिसका उपयोग आप न केवल एटीएम पर बल्कि ऑनलाइन भुगतान गेटवे या कार्ड स्वाइप भुगतान पर भी कर सकते हैं।

प्रत्येक ऑटोमेटेड टेलर मशीन( ATMs) में कुछ सामान्य बुनियादी भाग होते हैं, भले ही वे आकार और डिज़ाइन में अलग-अलग हो

  1. इनपुट डिवाइस
  • कार्ड रीडर
    प्रत्येक ऑटोमेटेड टेलर मशीन में डेबिट या एटीएम कार्ड डालने के लिए जगह होती है। एटीएम कार्ड में आम तौर पर पीठ पर एक चुंबकीय पट्टी होती है, और कुछ मामलों में सामने की तरफ एक चिप होती है, जिसमें खाता विवरण होता है। कार्ड रीडर इन विवरणों को पहचानता है और उन्हें उपयोगकर्ता सर्वर पर भेजता है
    •कीपैड
    सभी एटीएम में एक कीपैड होता है जहां आप नंबर डाल सकते हैं, उन्हें साफ़ कर सकते हैं या कोई लेनदेन रद्द कर सकते हैं। आप इसका उपयोग पिन और वह राशि दर्ज करने के लिए कर सकते हैं जिसे आप निकालना चाहते हैं। ये कीपैड या तो एटीएम पर भौतिक बटन या टचस्क्रीन पर वर्चुअल कीपैड हो सकते हैं
  1. आउटपुट डिवाइस

•डिस्प्ले स्क्रीन
प्रत्येक एटीएम में एक डिस्प्ले स्क्रीन होती है, आमतौर पर एलसीडी या सीआरटी जो लेनदेन की जानकारी को दर्शाती है जैसे लेनदेन करने के लिए कदम या निकासी के बाद शेष राशि। इसलिए, यह लेन-देन करने के लिए एक मार्गदर्शक के रूप में कार्य करता है। यह Pin Change, Fast Cash withdrawal , balance की जांच आदि के विकल्प प्रदर्शित करता है।

•कैश डिस्पेंसर
बैंक अधिकारियों द्वारा कैश को ऑटोमेटेड टेलर मशीन में सुरक्षित रूप से स्टॉक किया जाता है। एक कैश डिस्पेंसर है जहां से आप एटीएम से एक निश्चित राशि निकालने के बाद नकद प्राप्त कर सकते हैं
•रसीद प्रिंटर
लेन-देन पूरा करने के बाद, एटीएम में रसीद प्रिंटर लेनदेन का प्रकार, निकाली गई राशि और शेष राशि रिकॉर्ड करता है। चल रहे लेन-देन में, एटीएम आम तौर पर यह प्रश्न प्रदर्शित करते हैं कि ग्राहक रसीद चाहते हैं या नहीं। इसलिए, यदि अनुरोध किया जाता है, तो आपको रसीद प्रिंटर से रसीद मिलती है

  • स्पीकर
    अधिकांश एटीएम में एक स्पीकर होता है जो मशीन तक पहुँचने और लेनदेन करने के लिए ऑडियो निर्देश देता है। इसलिए, यह उपयोगकर्ताओं को लेन-देन सुचारू रूप से करने में सक्षम बनाता है ( अधिक जानकारी यहा देखे )

FAQs
Q.1 ATM का पूरा नाम क्या है?
Ans. ATM का पूरा नाम ‘Automated Teller Machine’ है यह एक प्लास्टिक का कार्ड होता है जिस पर एक विशेष प्रकार की चिप लगी होती है इस चिप में यूजर की बैंक डिटेल होती है जो कि बैंक द्वारा प्रदान किया जाता है

Q.2 ATM का प्रमुख कार्य क्या है?
Ans. एटीएम का सबसे मुख्य इस्तेमाल पैसे निकालने व जमा कराने में होता है। अलग-अलग बैंक की एटीएम कार्ड के लिए पैसे के लेनदेन के लिए अलग-अलग ट्रांजैक्शन की सीमा रखी गई है

Leave a Comment